हथेली की रेखा बतायेगी कैसा रहेगा आपका वैवाहिक जीवन

04 Sep, 2021 | धर्म ज्योतिष देश | vandana upadhyay

नई दिल्ली : एक अरसे से ये कहावत सुनते हैं कि हथेली की रेखा में इंसान की किस्मत लिखी होती है। ज्योतिषियों का भी यही मानना है कि हथेलियों की रेखा से इंसान के धन दौलत, पढ़ाई लिखाई, नौकरी, शादी, संतान और मृत्यु के बारें में पता लगाया जा सकता है।


आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि हथेली की वो कौन सी रेखा होती है, जो व्यक्ति के वैवाहिक जीवन के बारें में दर्शाती है।
हथेली की सबसे छोटी ऊंगली के नीचे वाले हिस्से को बुध माना जाता है। इसी हिस्से पर हथेली के बाहर की ओर से जो रेखा आती है, उसे विवाह की रेखा माना जाता है। कहा जाता है कि ये रेखा जितनी स्पष्ट होती है, व्यक्ति का वैवाहिक जीवन भी उतना ही बेहतर होता है। ऐसा होता है कि बहुत से लोगों की हथेली में कई बार इस स्थान पर एक से अधिक रेखाएं होती हैं। इनका मतलब व्यक्ति के प्रेम प्रसंग से लिया जाता है। जो रेखा सबसे लंबी और साफ होती है, उसे ही विवाह रेखा माना जाता है।


जिन व्यक्तियों के हाथ में विवाह की रेखा हृदय रेखा के पास होती है तो ऐसा माना जाता है कि उनकी शादी बहुत कम उम्र में हो जाएगी। अधिकतर 20 साल की उम्र के आसपास ऐसे लोगों की शादी हो जाती है।
अगर विवाह की रेखा शुरुआत में ही दो हिस्से में बंट जाए, तो इसका मतलब होता है कि उस व्यक्ति का विवाह टूट सकता है, वहीं अगर रेखा टूटी हो या कटी हुई हो तो ये विवाह विच्छेद की आशंका को व्यक्त करता है। ऐसे में व्यक्ति की दो शादियां होने की संभावना होती है।
यदि हथेली में दो विवाह रेखाएं मौजूद हों और भाग्य रेखा से निकलकर उसकी एक शाखा हृदय रेखा में मिल रही हो, ऐसी स्थिति में भी व्यक्ति की दो शादियों की संभावना होती है।
अगर विवाह की रेखा स्पष्ट और गहरी हो तो इसे शुभ माना जाता है और ये अच्छे वैवाहिक जीवन का संकेत है। यदि विवाह रेखा सूर्य रेखा तक होती है तो ऐसे व्यक्ति का विवाह किसी समृद्ध और संपन्न परिवार में होता है।
 विवाह रेखा की शरुआत में कोई चिन्ह हो तो ऐसे लोग अपने जीवन साथी के स्वभाव की वजह से परेशान होते हैं, उन्हें धोखा भी मिल सकता है। लेकिन अगर ये रेखा नीचे की ओर झुकी हुई होती है, तो वैवाहिक जीवन में कई तरह के संकट आते हैं।