दिल्‍लीवासी यमुना नदी में खुलेआम विसर्जन कर रहे मूर्ति, सरकार के आदेश की हो रही फजीयत

16 Oct, 2021 | दिल्ली | arya

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली सरकार के आदेश की जमकर उड़ रही धज्जियां उड़ाई जा रही है। केजरीवाल सरकार के सख्‍त निर्देशों के बाद भी लोग यमुना नदी में दुर्गा मूर्ति और अन्य धार्मिक सामग्रियों को विसर्जित करने से बाज नहीं आ रहे हैं। दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमेटी ने बुधवार को आदेश जारी करते हुए कहा था कि दिल्ली में किसी भी सार्वजनिक जगह पर दुर्गा मूर्ति विसर्जन की अनुमति नहीं होगी।

लोगों को घरों में ही बाल्टी या कंटेनर में विसर्जन करना होगा, लेकिन दिल्‍लीवासी जमकर आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। वैसे तो यमुना नदी में गंदगी हरियाणा के भी क्षेत्रों में नजर आती है, लेकिन दिल्ली और उत्‍तर प्रदेश में यह ज्यादा दूषित हो जाती है। दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति ने यह कदम नदियों और झीलों में होने वाला प्रदूषण के चलते उठाया था।

यही नहीं, डीपीसीसी ने नियम की अवेहलना करने पर 50 हजार जुर्माने का आदेश दिया था। जबकि मूर्ति विसर्जन के कारण पानी की गुणवत्ता में गिरावट आती है। इससे यमुना नदी में प्रदूषण का स्तर बढ़ गया है। यह फोटो दिल्‍ली के आईटीओ इलाके की हैं।