भारत में बढ़ रहा रैनसमवेयर अटैक का खतरा, 140 देशों की सूची में भारत 6वें स्थान पर

16 Oct, 2021 | देश दुनिया टैकनोलजी | Anupma Raj

गूगल (Google) द्वारा किए गए हाल ही के सर्वे में रैनसमवेयर अटैक का खतरा बढ़ने का खुलासा हुआ है। गूगल ने पिछले डेढ़ साल में जमा किए गए 8 करोड़ से ज्यादा रैनसमवेयर (Ransomeware)  सैंपल का एनालिसिस किया है। जिसमें 140 देशों की सूची में भारत 6वें स्थान पर है।

वहीं सबसे आगे इजराइल 600% की बढ़ोतरी के साथ है। इसके बाद दक्षिण कोरिया, वियतनाम, चीन, सिंगापुर, भारत,  कजाकिस्तान, फिलिपिंस, ईरान और UK सबसे ज्यादा प्रभावित टॉप 10 देशों में शामिल हैं। गूगल ने ये सर्वे वायरस टोटल की संख्या के आधार पर जारी किए हैं। बता दे कि वायरस टोटल एक साइबर सिक्योरिटी कंपनी है जो गूगल क्लाउड प्लेटफार्म का हिस्सा है। 

 

दरअसल 2020 में कम से कम 130 अलग अलग रैनसमवेयर एक्टिव थे और अब 2021 की पहली छमाही में मैलवेयर के 30 हजार ग्रुप मिले थे। इनमें से ऐसे भी 100 रैनसमवेयर हैं जिनकी एक्टिविटी कभी नहीं रुकती। रैनसम वेयर को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए जाने माने बॉटनेट मैलवेयर और अन्य रिमोट एक्सेस ट्रोजन समेत कई तरीकों का इस्तेमाल कर रहे हैं। वहीं गूगल ने कहा है कि उसके गूगल क्रोम ओएस क्लाउड फर्स्ट प्लेटफार्म पर किसी भी प्रोफेशन, एजुकेशन, कस्टमर की क्रोम ओएस डिवाइस पर रैनसेमवेयर हमले नहीं हुए है। रैनसमवेयर एक तरह का मैलवेयर होता है,जो आपके कंप्यूटर में घुसकर एक्सेस हासिल कर लेता है।