पीएम मोदी ने एशिया के सबसे बड़े एयरपोर्ट जेवर एयरपोर्ट का शिलान्यास किया,लाखों लोगों को मिलेगा रोजगार, जाने क्यों खास हैं ये एयरपोर्ट

उत्तर प्रदेश , दिल्ली , देश , दुनिया | PUBLISHED BY: ANUPMA RAJ | PUBLISHED ON: 25 NOV, 2021

पीएम मोदी (PM Modi) ने आज (गुरुवार) को एशिया के सबसे बड़े और दुनिया के चौथे सबसे बड़े एयरपोर्ट जेवर एयरपोर्टट (Jewar Airport) शिलान्यास रखा। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि आप सभी को, देश के सभी लोगों को, उत्तर प्रदेश के भाइयों और बहनों को नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की बहुत बहुत बधाई। इसका सबसे बड़ा लाभ दिल्ली एनसीआर और पश्चिम उत्तर प्रदेश के करोड़ों लोगों को होगा। किसान अपनी उपज का सीधे निर्यात कर पाएंगे। नया भारत आधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर निर्माण कर रहा है। एयरपोर्ट से करोड़ों लोगों को फायदा होगा। दिल्ली, एनसीआर सहित यूपी के लोगों को फायदा मिलेगा। एयरपोर्ट से कई शहरों तक पहुंचना आसान होगा। जेवर एयरपोर्ट से लाखों रोजगार पैदा होंगे। निर्यात केंद्र को अंतराष्ट्रीय बाजार से जोड़ेगा। दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे भी तैयार होने वाला है। उससे भी अनेकों शहरों तक पहुंचना आसान हो जाएगा। 

बता दे कि जेवर एयरपोर्ट नोएडा एयरपोर्ट के नाम से जाना जाएगा। इस एयरपोर्ट को यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट कहा जाता है। 2024 में इस एयरपोर्ट से उड़ान शुरू हो जाएगी। दिल्ली NCR के लोगों को पास सिर्फ इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट इकलौता विकल्प नहीं होगा। जेवर एयरपोर्ट की नोएडा शहर से 60 किमी, गुड़गांव से 80 किमी, गाजियाबाद से 75 किमी, आगरा से 130 किमी और IG एयरपोर्ट से 72 किमी की दूरी होगी। आइए जानते है जेवर एयरपोर्ट की खास बातें। 

                इसलिए खास है जेवर एयरपोर्ट

  • जेवर एयरपोर्ट कुल 3300 एकड़ जमीन पर बनेगा।
  • इसकी लागत 30 हजार करोड़ के करीब होगी।
  • जेवर एयरपोर्ट में कुल 5 रनवे होंगे, पहले चरण में यहां 2 रनवे बनेंगे। दूसरे चरण में इसे बढ़ाकर 5 रनवे कर दिया जाएगा। 
  • जेवर एयरपोर्ट पर 2 रनवे तैयार होंगे। नॉर्थ रनवे और साउथ रनवे। 
  • नॉर्थ रनवे पर VVIP टर्मिनल होगा मतलब इस रनवे से VVIP लोगों के विमान उड़ान भरेंगे। 
  • रनवे की लंबाई 4 किलोमीटर से ज्यादा होगी। 
  • साउथ रनवे के पास रेस्क्यू और फायर फाइटिंग सिस्टम और एक तालाब का भी निर्माण होगा। बारिश का पानी इक्कठा करने के लिए तालाब का निर्माण होगा। 
  • दोनों रनवे के पास लगभग 186 विमानों को पार्क करने के लिए स्टैंड मौजूद होंगे। 
  • एयरपोर्ट के अंदर पब्लिक ट्रांसपोर्ट के रूप में दूसरा विकल्प भी मौजूद रहेगा। जहां से मेट्रो या हाई स्पीड ट्रेन में सवार होकर करीब के शहरों में जाया जा सकेगा। 
  • मेट्रो स्टेशन के पास ही हवाई यात्रियों के बैठने के लिए एक अलग से टर्मिनल होगा। 
  • एयरपोर्ट के अंदर एक बड़ा सेंट्रल किचन भी होगा।
  • यमुना एक्सप्रेसवे, ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे और आसपास के सभी प्रमुख सड़कों और राजमार्गों को भी जेवर एयरपोर्ट को जोड़ा जाएगा। 
  • जेवर एयरपोर्ट देश का सबसे बड़ा कार्गो का हब होगा।
  • भारत में पहली बार जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर जहाजों के मेंटेनेंस के लिए बड़ा मेंटेनेंस सेंटर स्थापित किया जाएगा जिसके लिए अब तक भारत के जहाज विदेश जाता करते थे। 

 

 

 

#JewarAirport,#NoidaAirport,#DelhiAirport,#Uttarpradesh,#Delhi,#NarendraModi

खबरें और भी हैं..

अन्य समाचार