हरियाणा में बनी राम मूर्ति का अयोध्या में होगी स्थापना!

14 Aug, 2020 | National Punjab | RAJEEV


भिवानी : अयोध्या में भगवान श्रीराम की विश्व की सबसे ऊंची 823 फीट की प्रतिमा को लेकर भिवानी के लोहारु के मूर्तिकारों ने उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को प्रजेंटेशन दिया है। लोहारु के गांव समवास के रहने वाले राजकुमार और राजस्थान के सीमावर्ती कस्बे पिलानी के मूल निवासी नरेश वर्मा को उम्मीद है कि उनकी डिजाइन की गई मूर्ति की ही स्थापना अयोध्या में की जाएगी। दोनों मूर्तिकारों के मुताबिक योगी ने उनके प्रजेंटेशन की सराहना की है और प्राथमिक तौर पर स्वीकृति भी दे दी है। दोनों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संस्तुति पर योगी ने प्रजेंटेशन देने के लिए आमंत्रित किया था। राजकुमार बताते है कि उन्होंने गुजरात के बड़ौदा में भगवान शिव को 121 फीट ऊंची प्रतिमा बनाई थी।इसका लोकार्पण 2002 में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रथम पूजन किया था। राजकुमार के मुताबिक प्रधानमंत्री बनने के बाद भी उनपर नरेंद्र मोदी का स्नेह बरकरार है। दोनों राजस्थान के नाथद्वारा में भगवान शिव की सबसे ऊंची 351 फीट की प्रतिमा का निर्माण कर चुके है। इसमें भगवान शिव का चेहरा 80 फीट ऊंचा. आंख 18 फीट की है। प्रतिमा में चार लिफ्ट है। भगवान शिव की आंखों में दूरबीन लगाई हुई है। दोनों मुर्तिकारों की कार्यशाला गुरुग्राम में है। वहां वे अपने स्टाफ के साथ मूर्तियों का डिजाइन करते है। आपको बतादे कि अयोध्या में श्रीराम की प्रतिमा के बारे में उन्होंने बताया कि प्रतिमा 251 मीटर ऊंची यानि 823 फीट की बनने जा रही है। दुनिया की यह सबसे ऊंची प्रतिमा होगी। अष्टधातु से इसका निर्माण होगा। इसमें 50 मीटर ऊंचाई का चबूतरा बनेगा। इसी चबूतरानुमा ढांचे में रामायण के पात्रों का संपूर्ण चित्रण होगा। विशाल संग्रहालय  भी इसी में बनेगा। इसके ऊपर 201 मीटर ऊंचाई भगवान श्रीराम की प्रतिमा बनाई जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रतिमा निर्माण का ठेका किस ठेकेदार को मिलेगा, हमें अभी इसकी कोई जानकारी नहीं है।