दो नाबालिग लड़कियों से गैंगरेप और फर्जी बाबा ने तीन विदेशी युवतियों से किया रेप 

01 Oct, 2020 | Rajasthan | garima times

जयपुर । उत्तर प्रदेश के हाथरस गैंगरेप की घटना ने देशभर को झकझोर दिया। हर कोई हाथरस के गुनहगारों को कठोर सजा की मांग कर रहा है।  हाथरस के बाद बलरामपुर का नाम भी आ रहा है लेकिन अब राजस्थान में भी दो नाबालिग बहनों के साथ गैंगरेप का एक मामला सामने आया है। और राजस्थान में मामला यही नहीं है, वहां तीन विदेशी युवतियों ने अपने साथ हुए दुष्कर्म का केस दर्ज कराया है और वो भी एक फर्जी बाबा के नाम। 

जानकारी के अनुसार दो नाबालिग लड़कियों के साथ गैंगरेप की घटना सामने आई है। राजस्थान के बारां जिले में दो लड़कियों को कथित तौर पर अगवा करके उन्हें जयपुर और कोटा ले जाया गया, जहां तीन दिन तक इन लोगों के साथ गैंगरेप किया गया। लड़कियों के पिता ने कहा कि बेटियों की उम्र 13 और 5 वर्ष है। उन्होंने पुलिस को बताया कि दो नाबालिग आरोपियों ने लड़कियों को 18 सिंतबर को बहला फुसलाकर दूसरे शहर ले गए। इसके बाद इन लोगों को कोटा और जयपुर ले जाया गया, जहां दोनों के साथ इन लड़कों ने रेप किया। दो लड़कों के अलावा तीन अन्य लड़कों ने भी मेरी बेटियों के साथ रेप किया। 21 सितंबर को दोनों ही पीड़िता कोटा में पाई गई।

वहीं इस पूरे मामले में पुलिस का कहना है कि नाबालिग लड़कियों ने अपने साथ रेप के आरोपों को खारिज किया है। दोनों ही लड़कियों ने इस तरह के आरोपों से खारिज किया है। लेकिन दोनों लड़कियों ने कैमरे के सामने अपने बयान में कहा कि उन्हें नशीला पदार्थ देकर उनके साथ गैंगरेप किया गया। पीड़िता लड़कियों के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि उन्हें इस मामले में आरोपियों के खिलाफ केस ना दर्ज कराने की धमकी दी गई है। पीड़िता के पिता ने पुलिस से बाबत सूचना दी, जिसके बाद पुलिस आरोपियों को पुलिस स्टेशन ले आई। जब लड़की ने घटना के बारे में पुलिस को बताया तो आरोपियों ने पुलिस के सामने जान से मारने की धमकी दी। लड़की के पिता का आरोप है कि पुलिस ने लड़कों व बेटियों को पकड़कर लाये थे लेकिन इसके बाद लड़कियों को सखी केंद्र भेज दिया जबकि आरोपी लड़कों को छोड़ दिया गया है। 

लेकिन जब बारां दुष्कर्म की घटना की हाथरस कांड से तुलना हुई तो राजस्थान सीएम अशोक गहलोत ने सफाई दी और कहा कि हाथरस में हुई घटना बेहद निंदनीय है। उसकी जितनी निंदा की जाए उतनी कम है, लेकिन दुर्भाग्य से राजस्थान के बारां में हुई घटना को हाथरस की घटना से कम्पेयर किया जा रहा है।

  सीएम गहलोत ने कहा कि बारां में बालिकाओं ने स्वयं मजिस्ट्रेट के समक्ष दिए 164 के बयानों में अपने साथ ज्यादती नहीं होने एवं स्वयं की मर्जी से लड़कों के साथ घूमने जाने की बात कही है। बालिकाओं का मेडिकल भी करवाया गया एवं अनुसन्धान में सामने आया कि लड़के भी नाबालिग हैं, जांच आगे भी जारी रहेगी। सीएम गहलोत ने कहा कि घटना होना एक बात है और कार्रवाई होना दूसरी। घटना हुई तो कार्रवाई भी तत्काल हुई। इस केस को मीडिया का एक वर्ग और विपक्ष हाथरस जैसी वीभत्स घटना से कम्पेयर करके प्रदेश और देश की जनता को गुमराह करने का काम कर रहे हैं।

वहीँ दूसरी और  राजस्थान की राजधानी जयपुर में तीन विदेशी युवतियों से रेप के आरोप में एक बाबा को गिरफ्तार किया गया है। जयपुर डीसीपी वेस्ट प्रदीप मोहन शर्मा ने बताया कि आरोपी बाबा विदेशी महिलाओं को ऑनलाइन बिजनेस का झांसा देकर और योगा सिखाने का झांसा देकर काफी समय से उनका यौन शोषण कर रहा था। एक विदेशी युवती ने दिल्ली में और दो युवतियों ने एफआईआर जयपुर में दर्ज करवाई है। इनमें से एक एफआईआर जयपुर सदर और दूसरी विधायकपुरी थाने में दर्ज है। आरोपी बाबा रूपन चटर्जी बंगाल का निवासी बताया जा रहा है। बाबा 12 देशों की भाषा का जानकार है। फिलहाल आरोपी से पूछताछ की जा रही है।