हैवानियत : मासूम की अपहरण के बाद हत्या, शरीर पर गोदने के मिले निशान

02 Oct, 2020 | Rajasthan |

धौलपुर। बसई नवाब के रंजीतपुरा गांव में गुरुवार को दिल दहलाने वाला हादसा सामने आया। भला 2 साल के मासूम से किसी की ऐसी भी क्या दुश्मनी हो सकती है, जिसमें हैवानियत की हदें पार कर दी जाएं। गांव के 2 वर्षीय मासूम भावेश की लाश यहां झाड़ियों में पड़ी मिली। शरीर पर आंख, गले, पेट और गुप्तांगों के पास किसी हथियार से गोदने के निशान मिले हैं। पुलिस अभी तक यह पता नहीं लगा पाई है कि बालक को चाकुओं से गोदा गया है अथवा लोहे की गर्म रॉड से। मृतक भावेश के पिता मनीष त्यागी ने बताया कि उनकी न तो किसी से रंजिश है और न ही किसी से ऐसी दुश्मनी कि उसका बदला कोई उसके मासूम बेटे से ले। उसका बेटा तो बुधवार शाम घर के बाहर खेल रहा था। फिर अचानक गायब हुआ और अगले दिन उसकी लाश ही मिली। पता नहीं अपराधियों के ऐसे मंसूबे थे, जो मासूम का अपहरण कर उसकी हत्या कर दी। इस संबंध में सैंपऊ सीओ विजय कुमार सिंह का कहना है कि अगर बच्चे को चाकुओं से गोदा गया होता तो नुकीले निशान होते। लोहे की गर्म रॉड से गोदते समय भी चमड़ी जलनी चाहिए थी। लेकिन, प्रारंभिक जांच में ऐसा कुछ पता नहीं चल रहा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मौत के सही कारणों का पता चल सकेगा। इधर, इस घटना से पूरे गांव में सनसनी फैल गई। मृत बालक अपने घर में इकलौता बेटा था। एसपी केसर सिंह शेखावत ने बताया कि मृतक भावेश बुधवार शाम करीब 4 बजे घर के बाहर खेलते समय अचानक लापता हो गया था।  हैरानी की बात यह है कि मृतक भावेश का घर से कुछ ही दूरी पर झाड़ियों में जहां शव मिला है। वहां उसके परिजन कई बार पहले भी तलाश कर चुके थे। लेकिन, गुरुवार दोपहर बाद अचानक वहां शव कैसे आया। इसलिए आशंका है कि संभवतः किसी ने हत्या करने के बाद भावेश का शव झाड़ियों में फेंका है। इधर, सैंपऊ सीओ विजय कुमार सिंह ने बताया कि परिजनों ने किसी पर हत्या का शक नहीं जताया है। लेकिन बालक के शरीर पर दिख रही चोटों से यह मामला अपहरण के बाद हत्या का लग रहा है। परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने अपहरण और हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। बालक का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पोस्टमार्टम कराया गया।