आधी रात पत्नी, बेटी और बेटे की हत्या के बाद कर ली आत्महत्या 

23 Oct, 2020 | Rajasthan | garima times

बांसवाड़ा। शहर की रातीतलाई शिव मार्ग क्षेत्र में बुधवार रात किराएदार ने पत्नी, बेटे और बेटी की धारदार हथियार से गला काटकर हत्या कर दी। तीनाें काे इतनी बेरहमी से मारा गया कि खून पूरे कमरे में फैल गया। तीनाें के गले रेतने के बाद भी कई वार किए। वारदात रात 2 बजे के आसपास की बताई जा रही है।

जिस कमरे में तीन-तीन हत्याएं की गई। उसमें बगल के कमरे की तरफ जाते हुए खून से बने पैराें के निशान है। ऐसे में ऐसी आशंका जताई जा रही है कि पहले पत्नी और बेटे की हत्या के बाद बेटी काे बगल के कमरे में बुलाने गया। पैराें के खून के निशान कमरे के दरवाजे तक ही हैं। ऐसे में यह संभावना है कि बाहर से ही आवाज लगाकर बेटी काे बुला लिया। बाद में उसकी हत्या कर दी। घटना के बाद से ही आरोपी 42 वर्षीय देवेंद्र पुत्र रामदत्त शर्मा फरार था। सीसीटीवी फुटेज में रात काे 2:37 मिनट पर देवेंद्र घर से निकलता दिखाई दे रहा है। वहीं 2.47 बजे के बाद से उसने अपना माेबाइल स्विच कर लिया।

पुलिस ने देवेंद्र के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया था। लेकिन पुलिस को देवेंद्र का शव आज डायलाब तालाब पर तैरता मिला। पुलिस ने शव को तालाब से बाहर निकाल पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया है। पूरे मामले में पुलिस पहले ही महिला और दोनों बच्चों की हत्या की वजह साफ नहीं कर पाई है। ऐसे में पति का शव मिलने से गुत्थी और गहरा गई है।

जिला पुलिस अधीक्षक कविंद्र सिंह ने बताया कि शव की सूचना मिलने पर घटनास्थल पहुंचे उनके परिजन को बुलाकर शव की शिनाख्त कराई गई। साथ ही पुलिस द्वारा हत्या के बाद सुसाइड की संभावना भी जताई जा रही है। हालांकि हत्या के कारणों का खुलासा फिलहाल नहीं हो पाया है। आशंका जताई जा रही है कि पत्नी और बच्चों को मारने के बाद उसने भी सूइसाइड कर लिया होगा।  देवेंद्र  मूल रूप से धाैलपुर के मेंहदपुरा का रहने वाला था और पेशे से चालक था। बीते चार साल से यहां किराए के मकान में रह रहा था। मकान से सुबह 37 वर्षीय पत्नी नीतू शर्मा, 15 साल की बेटी श्वेता और 13 साल के बेटे आर्यन के खून से सने शव मिले। पुलिस काे घर से चाकू भी बरामद हुआ है। हत्या की वजह अभी साफ नहीं हाे पाई है लेकिन देवेंद्र के बहनाेई नरेंद्र काैशल का कहना है कि देवेंद्र अक्सर तनाव में रहता था।

सूचना पर एसपी कावेंद्रसिंह, एएसपी रामकृष्ण मीणा, डिप्टी राजऋषि वर्मा, काेतवाल माेतीराम सारण सहित तमाम अधिकारी माैके पर पहुंचे। डाॅग स्क्वायड और एफएसएल टीम को भी मौके पर बुलाया गया। मकान के जिस हिस्से में हत्याएं की गई, उसे भी सीज कर दिया है। वारदात का पता सुबह 10:30 बजे लगा जब देवेंद्र के बगल के कमरे में रह रही बालिका मनीषा ने इसी गली में रह रहे देवेंद्र के दामाद नरेंद्र काैशल काे घटना के बारे में बताया। नरेंद्र वहां पहुंचा ताे बैडरूम में साले की पत्नी और उसके दाेनाें बच्चाें के खून से सने शव पड़े थे। दरवाजे के हैंडिल और दीवाराें पर भी खून के छीटे लगे हुए थे। इस पर नरेंद्र ने देवेंद्र काे काॅल किया, लेकिन वह स्विच ऑफ था। नरेंद्र के साले देवेंद्र पर हत्या करने का संदेह जताने की रिपाेर्ट पर पुलिस ने हत्या का प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। परिजन देररात तक बांसवाड़ा पहुंचे। इसलिए पाेस्टमार्टम शुक्रवार काे किया जाएगा। चरित्र पर शक की आंशका भी जताई जा रही है।

डाॅ. एस.के जैन के मकान में देवेंद्र चार साल से किराए से रह रहा था। मकान मालकिन इंदू ने बताया कि देवेंद्र बेहद नरम स्वभाव का है। रात काे हमारे बरामदे की लाइट का बटन भी किसी ने बंद कर दिया। मुझे जब सुबह मनीषा ने बताया ताे रूम की तरफ जाकर देखा। खून पसरा हाेने पर पुलिस काे बुलाया। कभी पति-पत्नी के बीच झगड़ा हाेते भी नहीं देखा। नीतू भी काफी मेहनती और मिलनसार महिला थी। दामाद आगरा निवासी नरेंद्र काैशल निजी शिक्षण संस्थान में शिक्षक है। देवेंद्र अक्सर तनाव में रहता था। कुछ समय पहले उसका उदयपुर में इलाज भी कराया था। देवेंद्र के करीबियाें ने बताया कि वह बीते 7-8 दिनाें से तनाव में था।