हरियाणा में ठंड ने तोड़ा 14 साल का रिकॉर्ड, इस बार कड़ाके की ठंड के आसार

21 Nov, 2020 | Haryana |


हरियाणा और दिल्ली में तापमान लगातार गिरने लगा है और नवंबर में ही शीत लहर चलने का अहसास होने लगा है। ठंड ने नवंबर महीने के 14 सालों के रेकॉर्ड को तोड़ दिया है। दिल्ली का न्यूनतम तापमान 7.5 डिग्री हो गया है जो कि सामान्य से पांच डिग्री कम है। हालांकि 23 नवंबर के बाद ठंड कुछ कम होने की बात कही जा रही है, लेकिन यह राहत आंशिक होगी। दिल्ली के साथ ही पंजाब, हरियाणा समेत दूसरे राज्यों में भी शुक्रवार को तापमान सामान्य से नीचे दर्ज किया गया है। 

मौसम पूर्वानुमान बताने वाली निजी एजेंसी ‘स्काईमेट वेदर’ के एक विशेषज्ञ महेश पालावत ने कहा कि पश्चिमी हिमालय क्षेत्र की ओर से बर्फीली हवाओं के आने के कारण तापमान में गिरावट आयी और शनिवार तक ऐसी स्थिति बनी रहेगी। उन्होंने कहा कि एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ 23 नवंबर को उत्तर पश्चिमी भारत की ओर आ रहा है। इससे न्यूनतम तापमान में कुछ वृद्धि होने के आसार हैं। 

मौसम विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि दिल्ली में इस मौसम में पहली बार शीत लहर के आसार हैं। आम तौर पर मैदानी इलाकों में लगातार दो दिन जब तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या इससे कम रहे और सामान्य से 4.5 डिग्री सेल्सियस कम होता है तब मौसम विभाग शीतलहर की घोषणा करता है। उन्होंने कहा कि यह मानदंड शुक्रवार को पूरा हो गया। अगर शनिवार को भी स्थिति ऐसी ही रहती है तो हम शनिवार को शीत लहर की घोषणा करेंगे। 

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अधिकारियों के अनुसार, इस महीने 16 नवंबर को छोड़कर न्यूनतम तापमान बादलों के अभाव में सामान्य से 2-3 डिग्री सेल्सियस कम रहा है। मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में शीतलहर जारी है और केलांग और काल्पा जैसे पर्यटन स्थलों में तापमान शून्य से नीचे चला गया है। शिमला में न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।