हरियाणा के दो पूर्व मंत्रियों ने की कांग्रेस के इन दिग्गज नेताओं को पार्टी से निकालने की मांग

23 Nov, 2020 | Haryana | garima times

रोहतक।  कांग्रेस में अंदरखाने घमासान का दौर जारी है। इस बीच हरियाणा के दो पूर्व मंत्रियों ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर निशाना साधा।  पूर्व मंत्री सुभाष बत्रा और कृष्णमूर्ति हुड्डा ने गुलाम नबी आजाद, कपिल सिब्बल और आंनद शर्मा को पार्टी से निकालने की मांग की है। इन नेताओं पर पार्टी विरोधी गतिविधि में शामिल होने का आरोप लगाया। 

दरअसल नेतृत्व को लेकर लगातार उठ रहे सवालों को लेकर कांग्रेस अब दो धड़ों में बंटती दिख रही है। बिहार चुनाव और कई राज्यों में हुए उपचुनाव में कांग्रेस की करारी हार को लेकर पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल और पूर्व केंद्रीय मंत्री गुलाब नबी आजाद ने कटाक्ष किया है। एक धड़ा गांधी परिवार के नेतृत्व के साथ तथा दूसरा धड़ा नेतृत्व पर प्रश्नचिन्ह लगा रहा है। ऐसे में हरियाणा के दो पूर्व मंत्रियों ने गुलाब नबी आजाद के बयान को लेकर विरोध प्रकट किया है। जिसमें उन्‍होंने कांग्रेस प्रत्‍याशियों को टिकट मिलने पर होटलों में बुक होने और अन्‍य चीजों को लेकर टिप्‍पणी की है। उन्होंने गांधी परिवार के कांग्रेस नेतृत्व का समर्थन करते हुए ऐसे नेताओं को अपने गिरेबान में झांकने की नसीहत दी है।

हरियाणा के पूर्व गृहमंत्री सुभाष बतरा और पूर्व मंत्री कृष्णमूर्ति हुड्डा ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि गांधी परिवार ने कांग्रेस को शिखर पर पहुंचाने का काम किया है। आज जो भी नेता उनके नेतृत्व पर उंगली उठा रहे हैं, पहले उन्होंने अपने अंदर झांक कर देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि गुलाम नबी आजाद को केंद्र में मंत्री, मुख्यमंत्री और संगठन में महासचिव जैसी जिम्मेदारी दी गई। उन्होंने हरियाणा कांग्रेस का प्रभारी बनाया गया था। लेकिन एक दिन भी उन्होंने जमीन पर उतरकर कार्यकर्ताओं का मन नहीं टटोला। इतना ही  नहीं वे प्रदेश में संगठन तक खड़ा नहीं कर सके। ऐसे में वे किस अधिकार से राष्ट्रीय नेतृत्व पर सवाल उठा सकते हैं। गुलाम नबी आजाद के बयान को लेकर उन्होंने कड़े शब्दों में निंदा की है। उन्होंने कहा कि गांधी परिवार ही कांग्रेस पार्टी का बेहतर ढंग से नेतृत्व करके एकजुट कर सकता है।

हरियाणा कांग्रेस प्रदेश के दो पूर्व मंत्रियों ने अपने ही पार्टी के सीनियर नेताओ के खिलाफ मोर्चा दिया। कृष्ण मूर्ति हुड्डा व सुभाष बतरा ने गुलाब नबी आजाद, कपिल सिब्‍बल, आनंद शर्मा को पार्टी से निकालने की मांग की है। हाल में ही गुलाम नबी आजाद द्वारा दिए गए बयान को लेकर मंत्रियों ने आरोप लगाया है कि उपरोक्‍त तीनों नेता पार्टी के खिलाफ गतिविधि कर रहे हैं। कांग्रेस को कमजोर करने का का कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि गुलाम नबी आजाद ने धारा 370 हटाने का भी विरोध किया था। हम गुलाब नबी आजाद के घर के बहार दिल्ली में प्रदर्शन करेंगे ।

पूर्व मंत्री सुभाष बतरा और पूर्व मंत्री कृष्णमूर्ति हुड्डा की जोड़ी हमेशा से चर्चा में रहती है। कभी साथ तो कभी जुदा-जुदा रहने वाले दोनों नेता अब फिर से एक साथ आ गए हैं। दोनों ही पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल सरकार में मंत्री बने थे। जब उनके बेटे कुलदीप बिश्नोई ने नई पार्टी बनाई तो दोनों कांग्रेस छोड़कर उनकी पार्टी में शामिल हो गए। लेकिन कुछ समय बाद ही कुलदीप बिश्नोई से बगावत करके वे फिर से कांग्रेस में आ गए। कभी पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के खेमे में तो कभी अशोक तंवर, किरण चौधरी व सैलजा गुट में पहुंच जाते हैं। वर्तमान में दोनों नेता कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा के साथ नजर आ रहे हैं।