हाथों की मेहंदी उतरने से पहले उजड़ा सुहाग, जहर बना कारण, 43 दिन पहले हुई थी शादी

21 Jan, 2021 | Panipat | garima times

पानीपत। एक महीने पहले युवक की शादी हुई थी। उसी ने जहर खाकर खुदकुशी कर ली। परिवार वाले हैरान हैं कि उनके बेटे ने ऐसा कदम क्यों उठाया। भाई-बहन का रो-रोकर बुरा हाल है। पानीपत के बिशन स्वरूप कालोनी में रहता है परिवार। जहर खाने के बाद अपने दोस्त को फोन पर बताया था कि तबीयत खराब हो गई है।

मिली जानकारी के अनुसार सिटी थाना क्षेत्र की बिशन स्वरूप कॉलोनी के युवक की जहर खाने के बाद इलाज के दौरान मौत हो गई। 43 दिन पहले ही युवक की जींद के उचाना निवासी युवती से शादी हुई थी। अभी तक युवक के जहर खाने के कारणों का पता नहीं लग सका है। परिजनों ने किसी पर शक नहीं जताया। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया।  

बिशन स्वरूप कालोनी में रहता है गौरव सिंगला का परिवार। 29 वर्षीय गौरव की एक महीना पहले शादी हुई थी। वह मोबाइल रिपेयरिंग और बेचने का काम करता है। घर में अभी खुशी का माहौल बना हुआ था कि बेटे ने जहर खा लिया। किसी को समझ नहीं आ रहा कि आखिर गौरव ने ऐसा कदम क्यों उठाया।

गौरव ने अपने दोस्त लतीफ गार्डन में रहने वाले अमन को फोन किया। उसे कहा कि उसकी तबीयत खराब हो गई है। वह स्काईलार्क में है। उसे संभाल ले। अमन को कुछ गड़बड़ लगी। वह दौड़ा-दौड़ स्काईलार्क पहुंचा। वहां देखा कि गौरव की हालत खराब है। वह उसे तुरंत पानीपत के प्रेम अस्पताल में लेकर पहुंचा। उसकी जान बचाने की काफी कोशिश हुई लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका।

गौरव के दोस्त अमन ने बताया कि कल शाम को उसने गौरव को फोन किया था। तब गौरव ने खुद ही जहर खाने की बता कही। उसके कई बार पूछने पर गौरव ने बताया कि वह स्काइलार्क पर है। अमन वहां पहुंचा तो गौरव की हालत खराब थी। गौरव ने खुद ही अमन से उसे अस्पताल में भर्ती करने को कहा। जिसके बाद उसे प्रेम अस्पताल में भर्ती कराया। अमन की ओर से ही सिटी थाना पुलिस को बयान दिया गया है।

गौरव के भाई रिंकू ने बताया कि बीती 7 दिसंबर को गौरव की शादी जींद जिले के उचाना निवासी ईनू देवी के साथ धूमधाम से शादी हुई थी। रिंकू के अनुसार गौरव काफी खुश था। किसी प्रकार की परेशानी नहीं थी। गौरव का किसी से झगड़ा और लेन-देन भी नहीं था। वह नहीं समझ पा रहे कि गौरव ने ऐसा कदम क्यों उठाया।

रिंकू ने बताया कि शादी से पहले ही सेक्टर-18 में नया घर बनाना शुरू कर दिया था। शादी के बाद धीरे-धीरे पूरा परिवार सेक्टर-18 में शिफ्ट हो ही रहा था, कि घर का एक सदस्य नहीं रहा। गौरव तीन भाई-बहनों में सबसे छोटा था। गौरव के पिता पुरुषोत्तम प्राइवेट जॉब करते हैं।