बहादुरगढ़ की जूता फैक्ट्री में लगी भीषण आग, दमकल की कई गाड़ियां मौजूद 

झज्जर | PUBLISHED BY: GARIMA TIMES | PUBLISHED ON: 05 FEB, 2021

बहादुरगढ़। बहादुरगढ़ के आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र पार्ट ए में श्री श्याम इंटरनेशनल के नाम से बनी हुई एक जूता फैक्ट्री में शुक्रवार दोपहर करीब दो बजे अचानक भीषण आग लग गई। आग लगने के कारणों का अब तक पता नहीं चल पाया है। मौके पर मौजूद लोग शार्ट सर्किट से उठी चिंगारी के कारण आग लगने का कारण बता रहे हैं। आग फैक्ट्री के गोदाम वाले हिस्से में लगी है जो कुछ ही देर में भयंकर रूप से फैल गई। आग लगते ही यहां आसमान में धुआं ही धुआं उठ रहा है। आज की सूचना तुरंत फायर ब्रिगेड को दी गई। फायर ब्रिगेड की कई गाड़ियां मौके पर पहुंचकर आग बुझाने में लगी हुई हैं।

आग जूता फैक्ट्री में लगी होने की वजह से इसके काफी देर बाद बुझने की संभावना है। फिलहाल आग फैक्ट्री में पूरी तरह फैल रही है फायर ब्रिगेड की कई गाड़ियां आग बुझाने में जुटी हुई है। शुक्रवार दोपहर करीब दो बजे इस फैक्ट्री में अचानक कर्मचारियों को धुआं उठता दिखाई दिया। फैक्ट्री बहादुरगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री एसोसिएशन के प्रधान रामकिशन सिंघल की है। आग फैक्ट्री के गोदाम वाले हिस्से में लगी है। इसमें काफी माल भरा हुआ था।

आग लगते ही फैक्ट्री में अफरा-तफरी मच गई और कर्मचारी दौड़ने लगे। आग बुझाने की पहले तो खुद ही कोशिश की गई, मगर फैक्ट्री में ज्वलनशील पदार्थ ज्यादा होने की वजह से आग ने तुरंत भयंकर रूप ले लिया। फायर ब्रिगेड को सूचना देकर बुलाया गया। कुछ ही दूरी पर फायर स्टेशन होने की वजह से फायर ब्रिगेड की गाड़ियां तुरंत आ गई और आग बुझाने का सिलसिला शुरू हुआ। आग से अब तक लाखों रुपये के नुकसान का अनुमान है। फिलहाल यह भी पता लगाया जा रहा है कि आग लगने के दौरान यहां पर कोई कर्मचारी काम कर रहा था या नहीं।

फिलहाल फायर ब्रिगेड व पुलिस की टीम मौके पर जांच कर रही है और आग बुझाने का भी प्रयास कर रही है। गौरतलब है कि बहादुरगढ़ की फुटवियर फैक्ट्रियों में आग लगने की घटनाएं होती रहती हैं। गत 22 जनवरी को तीन फैक्ट्रियों में लगी आग में दो जान चली गई थी। इससे पहले फरवरी 2020 में करीब चार फैक्ट्रियों में आग लग गई थी जिसमें 10 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी।

बार-बार हो रहे इस तरह के जानलेवा हादसे सुरक्षा इंतजामों की कमी के परिणाम के रूप में सामने आ रहे हैं। फैक्ट्री भवनों का निर्माण नियमों के हिसाब से न होना, उनके अंदर उत्पादन को लेकर उदासीनता और सुरक्षा के इंतजाम की कमी समेत तमाम पहलुओं पर घोर लापरवाही बरती जा रही है। यही वजह है कि साल-छह महीने में कोई न कोई ऐसा बड़ा हादसा होता ही है जब यहां कामगारों को अपनी जान गंवानी पड़ती है। इससे पहले 20 सितंबर 2019 को कूलर फैक्ट्री में आग की घटना में दो इंजीनियरों की मौत हो गई थी। इससे पहले भी ऐसे जानलेवा हादसे होते रहे हैं। अब एक बार फिर ऐसा ही हुआ।

आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र ,इंटरनेशनल,जूता फैक्ट्री ,भीषण आग

खबरें और भी हैं..

अन्य समाचार