दुर्दांत अपराधी विकास का भतीजा अमर दुबे हमीरपुर में मुठभेड़ में ढेर

08 Jul, 2020 | Uttar Pardesh | Garima Times

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की जान लेने वाले विकास दुबे और उसके गुर्गों की तलाश मे लगी पुलिस को बुधवार सुबह विकास दुबे के दाहिना हाथ माने जाने वाले चचेरे भाई अमर दुबे को मार गिराने मे सफलता हाथ लगी

हमीरपुर- कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की जान लेने वाले विकास दुबे और उसके गुर्गों की तलाश मे लगी पुलिस को बुधवार सुबह विकास दुबे के दाहिना हाथ माने जाने वाले चचेरे भाई अमर दुबे को मार गिराने मे सफलता हाथ लगी। हमीरपुर के मौदाहा में पुलिस और एसटीएफ की टीम की अमर दुबे से बुधवार सुबह हुई मुठभेड़ में पुलिस ने उसे ढेर कर दिया। कानपुर में पुलिसवालों की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी विकास दुबे के गुर्गों में अमर दुबे सबसे करीबी था। इस हत्याकांड के वांछित अभियुक्तों के वायरल पोस्टर में अमर दुबे का नाम पहले नंबर पर था। एसटीएफ और हमीरपुर पुलिस ने बुधवार सुबह उसका एनकाउंटर कर दिया।

सूचना पर मौदहा कोतवाली पुलिस व एसटीएफ ने क्षेत्र में छिपे दुर्दांत अपराधी विकास दुबे का भतीजा अमर दुबे की बुधवार तड़के घेराबंदी कर दी। पुलिस पर फायरिंग के बाद जवाबी कार्रवाई में गोली लगने से अमर घायल हो गया। उसे मौदहा के सरकारी अस्पताल ले जाया गया, वहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। अमर पर कानपुर के बिकरू गांव में सीओ समेत पुलिस कर्मियों पर गोली बरसाकर हत्या करने का आरोप था। कानपुर पुलिस द्वारा वांछितों में सूची में उसे टाॅप पर रख उस पर 25 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया था।

बुधवार तड़के थाना मौदहा पुलिस व एसटीएफ टीम को सूचना मिली कि अमर दुबे नाम का एक व्यक्ति जिसने कानपुर में पुलिसकर्मियों पर फायरिंग की थी और उसकी हत्या के मामले में विकास दुबे के बाद मोस्ट वांटेड व 25 हजार रुपये का इनामी अभियुक्त है उसका मूवमेंट थाना मौदहा क्षेत्र के अरतरा गांव के पास हुआ है। इस सूचना पर थाना मौदहा की टीम और एसटीएफ की टीम द्वारा घेराबंदी की गई तो अमर दुबे ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। इसमें इंस्पेक्टर मौदहा मनोज शुक्ला व एसटीएफ टीम के एक कांस्टेबल गोली लगने से वह घायल हो गए।