दिल्‍ली दंगों ने छीने जिगर के टुकड़े, दिल्‍ली सरकार ने दिया करोड़ो का मुआवजा

23 Feb, 2021 | Delhi |

सांकेतिक फोटो

नई दिल्ली। बीते साल फरवरी माह में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों को एक साल पूरा हो गया है। CAA विरोधी धरने के दौरान ही 23 फरवरी की शाम को उत्तर-पूर्वी दिल्ली में दंगे शुरू हो गए थे जिसमें कई जानें गईं, मकान, दुकान, कार,रिक्शा आदि को नुकसान भी पहुंचा। दिल्ली सरकार ने दंगों के दौरान जान गवाने वाले लोगों के परिवारों और दंगों का दर्द झेलने वाले लोगों को मुआवज़े का ऐलान किया था जिसके तहत अब तक 26 करोड़ रुपये से ज़्यादा का मुआवजा दिया जा चुका है।

आपको बता दें, उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों में 53 लोगों की जान गई थी जबकि करीब 200 लोग घायल हुए थे। जिसके बाद 27 फरवरी को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में पीड़ितों को मुआवजा देना निर्धारित हुआ था। दिल्ली सरकार के फ़ैसले के मुताबिक, मुआवज़ा कुछ इस तरह देना तय हुआ था। 15. बीमा रहित व्यवसायिक प्रतिष्ठानों/दुकानों में लूट/चोरी/नुकसान होने पर- अधिकतम 5,00,000 है। बता दें कि जिन स्कूलों में 1000 से कम छात्र पढ़ते हैं उनको 5,00,000 रुपए का मुआवजा और जिन स्कूलों में 1000 से अधिक छात्र पढ़ते हैं उनको 10,00,000 रुपए तक का मुआवजा है।

दिल्ली सरकार के आंकड़ों के मुताबिक, दंगों में मारे गए 44 लोगों के परिवार को कुल 4.25 करोड़ दिए जा चुके हैं. जबकि दंगों के दौरान घायल होने वाले 233 लोगों को कुल एक करोड़ 75 लाख 40 हज़ार रुपये मुआवजे के तौर पर दिए जा चुके हैं। दंगों के दौरान घरों और दुकानों में ना सिर्फ तोड़फोड़ की गई थी बल्कि उनमें आग भी लगा दी गई थी।

731 लोगों को उनके घरों के नुकसान के लिए 8,51,27,400 दिए गए जबकि 1176 दुकानों/प्रतिष्ठानों को 11,28,18,042 मुआवजे के तौर पर दिए गए। इसके अलावा लोगों के जानवर/ई-रिक्शा/स्कूटी आदि के नुकसान के लिए 12 लोगों को 4,42,875, झुग्गियों के नुकसान के लिए 22 मामलों में 5.5 लाख और स्कूल में हुए नुकसान के लिए 3 स्कूलों को 20 लाख रुपए मुआवजे के तौर पर दिए गएइस तरह से कुल 2221 लोगों को 26,09,78,416 का मुआवजा मिला।